ChatGPT क्या है और कैसे काम करता है | Chat GPT in Hindi

Chat GPT in hindi – यह एक चैट बॉट है जिसको openai नाम की कम्पनी ने बनाया है इसका काम है किसी भी सवाल का जवाब देना, आप इससे जो भी सवाल करते हैं उसका यह लिख कर आपके सवाल से संबंधित सटीक उत्तर देने की कोशिश करता है.

टेक्नोलॉजी के टाइम में अलग-अलग प्रकार के आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस मोजूदा हैं और Chat GPT भी एक अत्याधुनिक AI का मॉडल है.

आज के आर्टिकल में आप Chat GPT के बारे में गहराई से पढ़ने वाले हैं इसलिए Chat GPT in Hindi के आर्टिकल को शुरू से लेकर अंत तक पढ़ते रहें.

ChatGPT क्या है ?(Chat GPT in Hindi)

Chat GPT एक अत्याधुनिक बात करने वाला या फिर चैट करने वाला एआई मॉडल है जिसको ओपनएआई के developers ने बनाकर तैयार किया है.

यह GPT-3 (जनरेटिव प्री-ट्रेन्ड ट्रांसफॉर्मर 3) आर्किटेक्चर का उपयोग करता है, जो एक प्रकार का ट्रांसफॉर्मर base neural network है जिसे natural language processing tasks जैसे कोई भाषा का निर्माण, translation करना और पाठ सारांश के लिए डिज़ाइन किया गया है.

ChatGPT को काफ़ी हद तक टेक्स्ट के डेटा पर trained किया गया है ताकि यह किसी भी सवाल का जवाब जैसे कोई real human देता है उस तरीक़े से दे सके.

इसका उपयोग अलग-अलग जगह या फिर अलग-अलग तरीक़े से किया जा सकता है जैसे कि कस्टमर सर्विस के लिए, virtual assistants के लिए या फिर चैटबोट के लिए.

ChatGPT से आप कोई भी सवाल का जवाब पा सकते हैं लेकिन यह ज़रूरी नहीं है कि ChatGPT हमेशा सही जवाब दे, इसमें कुछ फेर बदल भी हो सकते है, अगर इस तरह की परेशानी किसी को भी हो तो उसके लिए आपको अपने सवाल को थोड़ा और detail से समझाना होता है.

ChatGPT काम कैसे करता है ?(How does work Chat GPT)

यह deep learning techniques का इस्तेमाल करता है और इनपुट मिलने के अनुसार इनपुट से संबंधित text को आगे generate करता है.

नीचे ChatGPT का brief overview दिया गया है जिसके बारे में आप पढ़ सकते हैं.

  1. Input ChatGPT पहले यूज़र से prompt लेता है जो की एक छोटा सा टुकड़ा है जिसकी सहायता से इस AI को आगे काम करने के लिए संकेत मिल जाता है.
  2. Encoding – ChatGPT को यूजर के ज़रिये मिले हुए इनपुट को पहले एनकोडर के ज़रिए आगे ले जाता है और उसे numerical में बदलता है.
  3. Attention – यह आउटपुट दिखाने से पहले डिकोडर एन्कोडेड इनपुट के सबसे पहले भागों पर ध्यान देने के लिए Attention mechanisms का उपयोग करता है.
  4. Prediction – यह एक-एक शब्द को अपने मेमोरी डेटा के अंदर से संबंधित चीजों को read करके आगे के लिए Prediction कर सकता है.
  5. Post-processing – जेनरेट किए गए टेक्स्ट को Post-processing चरण के अंदर से गुजरा जाता है ताकि यह पक्का किया जा सके कि आउटपुट व्याकरणिक रूप से सही हो.

ChatGPT के फ़ायदे ?(benefits of chatgpt)

benefits of chatgpt in hindi – OpenAI के GPT-3 मॉडल (ChatGPT) का इस्तेमाल करने के कई फ़ायदे हैं जिनके बारे में नीचे detail से लिखा गया है.

Natural language understanding

ChatGPT का डेवलपमेंट इस तरीक़े से किया गया है ताकि यह किसी भी इंसान की भाषा को आसानी से समझकर जवाब दे सके क्योंकि इसे बात करने के लिए ही बनाया गया है.

High accuracy

ChatGPT को बेहद डेटा के साथ trained किया गया है जिससे अगर कोई भी यूजर किसी भी तरह का सवाल पूछता है तो उस सवाल के हिसाब से सटीक जवाब यूजर को सामने टेक्स्ट के रूप में मिल जाता है और अगर यूजर उस सवाल को पढ़ता है तो वह Natural language में लिखा हुवा मिलता है.

Multitasking

ChatGPT को आप अलग-अलग काम के लिये इस्तेमाल कर सकते हो जैसे कि अगर आप कोई प्रश्न पूछते हैं तो प्रश्न से संबंधित आपको सही उत्तर देखने को मिल जाएगा.

इसके अलावा अगर आप कोई लेख लिखना चाहते हैं तो आपको ज़्यादा कुछ नहीं करना होता है आपको सिर्फ़ टॉपिक देना होता है ChatGPT को और बाक़ी काम ChatGPT अपने आप कर सकता है.

इसके अलावा आप summarization, translation आदि काम भी ChatGPT पर बड़ी आसानी से कर सकते हैं.

इन सब कामों को करने की क़ाबिलियत ChatGPT को मल्टीटास्किंग बनाता है.

Customization

ChatGPT को अलग-अलग कामों और डोमेनों के लिए ठीक किया जा सकता है जिससे डेवलपर्स को कस्टम मॉडल बनाने के लिए हरी झंडी मिल जाती है जो उनकी specific आवश्यकताओं को पूरा कर सके.

Speed

ChatGPT की स्पीड काफ़ी ज़्यादा है यानी कि अगर एक तरफ़ आप अपना कोई भी सवाल पूछते हैं तो दूसरी तरफ़ ChatGPT उस सवाल का जवाब लिखता जाएगा. जितनी ज़्यादा आपके सवाल लिखने की स्पीड होगी उससे भी ज़्यादा स्पीड ChatGPT के उत्तर देने की मानी जाती है.

इसकी इतनी ज़्यादा स्पीड होने के कारण real-time applications के लिए यह काफ़ी सही है.

ChatGPT के नुक़सान?(Disadvantages of Using Chat GPT)

वैसे तो इसका कोई नुक़सान नहीं है लेकिन कुछ बातें हैं जिनके बारे में हम इंसान चर्चा कर सकते हैं जैसे:

  • ChatGPT text या फिर images के prompt का इस्तेमाल करता है जिसके माध्यम से जवाब देता है लेकिन यह किसी भी इंसान की भावना को नहीं समझ सकता है.
  • इसके अलावा ChatGPT के इस्तेमाल से आजकल लोग ख़ुद से चीजें करने या कोई bug को ढूँढने में आलस करने लगे हैं जिससे की सबसे बड़ा नुक़सान यह है कि लोग ख़ुद की creativity नहीं कर पा रहे हैं.
  • आप ChatGPT से अपनी पर्शनल भावना या फिर double mining question नहीं कर सकते हैं.

Conclusion

धीरे-धीरे आज पूरी दुनिया आर्टिफीसियल इंटेलीजेंस की तरफ़ जा रही है जिससे एक तरह से दुनिया को काफ़ी फ़ायदा हो रहा है लेकिन अगर हम दूसरे पक्ष से देखें तो इससे नुक़सान भी है.

आज के आर्टिकल में आपने पढ़ा की ChatGPT क्या है ?(Chat GPT in Hindi), ChatGPT काम कैसे करता है ?, ChatGPT के फ़ायदे क्या-क्या है और नुक़सान क्या हैं आदि.

अगर आपको इस आर्टिकल से संबंधित और कोई सवाल है तो आप कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं.

Leave a Comment